आज की ताजा खबर

स्वास्थ्य कर्मी ए0ई0एस, जे0ई0 बीमारी के प्रति सजग रहे-प्रशांत कुमार त्रिवेदी

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
बस्ती 25 जुलाई, उत्तर प्रदेश शासन के प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण प्रशांत कुमार त्रिवेदी की अध्यक्षता में आज मण्डलीय सभागार में स्वास्थ्य विभाग की कार्यो की समीक्षा की गयी, जिसमें मुख्य रूप से ए0ई0एस, जे0ई0 बिमारी के नियंत्रण समन्वय एवं चिकित्सा विभाग मंे डाक्टरों एवं स्टाफ की उपस्थिति आदि प्रमुख बिन्दु थे। प्रमुख सचिव का स्वागत बस्ती मण्डल के आयुक्त दिनेश कुमार सिंह द्वारा किया गया तथा मण्डल के स्वास्थ्य व्यवस्थाओं तक संक्षिप्त प्रकाश डाला गया, जिसमें डाक्टर स्टाफ की कमी स्वीकृत पदों पर तैनाती एंव प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो का जो बनकर तैयार है उनका हैण्डओबर किया जाना है।
मण्डलायुक्त के साथ जिलाधिकारी बस्ती अरविन्द कुमार ंिसह, जिलाधिकारी संतकबीर नगर मार्कण्डेय शाही, जिलाधिकारी सिद्धार्थ नगर कुणाल सिल्कू के अलावे स्वास्थ्य विभाग के मण्डल एवं जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। प्रमुख सचिव ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के जो स्टाफ की कमी है, उसको दूर किया जायेगा तथा संविदा पर रखने की कार्यवाही भी किया जायेंगा, जहाॅ पर स्त्री रोग विशेषज्ञ नही है वहाॅ पर भी स्थानीय चिकित्सको से सम्पर्क कर उनके सेवाओं को लिया जायेंगा। आयुष विभाग के डाक्टरों से बेहतर समन्वय करते हुए उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो पर भी तैनात किया जायेंगा।
समीक्षा में यह ज्ञात हुआ कि लगभग सात पीएचसी बनकर तैयार है लेकिन स्टाफ की स्वीकृति पदों के अभाव में चालू नही हो रही है इस पर प्रमुख सचिव ने शीध्र कार्यवाही करने के आश्वासन दिये। संतकबीर नगर के चार डाक्टर निलम्बित है इनकी जाॅच शीध्र पूरा करने हेतु तथा एक दर्जन से ज्यादा मण्डल में गायब डाक्टर है उन डाक्टरों की सेवा समाप्ति करने की कार्यवाही पर भी निर्णय लिया गया।
प्रमुख सचिव ने अस्पतालों में साफ-सफाई व्यवस्था बनाये रखने की लोगो को बेहतर चिकित्सा सुविधाए देने एवं समय से डाक्टरों को उपस्थित रहने हेतु निर्देश दिया गया। प्रमुख सचिव द्वारा शहर के चिकित्सालयों का भी निरीक्षण किया गया था। श्री त्रिवेदी ने ए0ई0एस0, जे0ई0 के रोग थाम हेतु साफ-सफाई कराने, फाॅगिंग कराने, इसका बेहतर प्रचार-प्रसार कराने एवं स्वच्छ पेयजल आपूर्ति करने एवं इस कार्यक्रम को स्वच्छता मिशन से जोड़ने हेतु निर्देश दिया गया है। अभीतक मण्डल में इस वीमारी से ग्रसित 12 लोग पाये गये है, जिसमें 08 बस्ती, 03 सिद्धार्थ नगर तथा एक संतकबीर नगर का है, इसका सधन अभियान चलाकर इस बिमारी के प्राथमिक स्तर तक इलाज करने तथा समुचित दवा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। कुछ चिकित्साधिकारियों ने फाॅगिंग का मामला उठाया इस पर प्रमुख सचिव ने इसका शीध्र प्रस्ताव शासन को भेजने हेतु निर्देश दिया जिससे की मशीन उपलब्ध कराया जा सके।
प्रमुख सचिव ने कहा कि लोगों के प्रति चिकित्सा विभगा के प्रति विश्वास पैदा करने हेतु चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को कार्यवाही करनी चाहिए तथा स्वीकृति पद के विपरीत आउट सोर्सिंग पर कर्मचारी रखने में कोई प्रतिबन्ध नही है। पूरे मण्डल में उक्त विमारियों के इलाज हेतु 34 उपकरण है। इसकी और संख्या बढ़ाने तथा मानव संसाधन की संख्या बढ़ाने पर जोर दिया गया।
इस बैठक में मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी के अलावे अपर निदेशक स्वास्थ्य, मण्डल के समस्त मुख्य चिकित्साधिकारी, मुख्य चिकित्साधीक्षक एवं संबंधित टीकाकरण योजना के प्रभारी एवं संचारी रोग के निदेशक डाॅ0 बद्री विशाल सहित संबंधित कार्यो से जुडे अधिकारी, ग्राम विकास, शिक्षा विभाग आदि के विभागों के अधिकारी और सहायक उपस्थित रहे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below