आज की ताजा खबर

स्वच्छ रह कर बीमारी से बचा जा सकता है-डा0ए0पी0 श्रीवास्तव

?

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
संतकबीरनगर 24 मार्च, विश्व टीबी दिवस के अवसर पर आज स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग के सहयोग से जनजागरूकता रैली जूनियर हाईस्कूल खलीलाबाद प्रागण से निकाली गयी रैली को मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ए0पी0 श्रीवास्तव ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया।
स्लोगन के माध्यम से परिषदीय विद्यालय के छात्र-छात्राओ ने सभी को जागरूक किया। गोष्ठी के मुख्य अतिथि सदर विधायक दिग्विजय नारायण उर्फ जय चैबे रहे।
उन्होने स्वास्थ्य अधिकारियो को सचेत करते हुए कहा कि स्वास्थ्य सेवाए देने में कोताही न बरते तथा जनजागरूकता के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग के प्रोग्राम को जन-जन तक पहुचाने का कार्य करे।
मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आनन्द प्रकाश श्रीवास्तव ने कहा कि साफ सफाई रखने तथा स्वच्छता को अपनाये और बीमारी रहेगा दूर सीएमओ आज विश्व टी बी दिवस के अवसर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र खलीलाबाद परिसर स्थित जिला क्षय रोग अस्पताल में गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए उक्त बाते कही। उन्होने कहा कि भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार पूरे देश व प्रदेशवासियो के स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए विभिन्न स्वास्थ्य सम्बन्धित योजनाओ के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाए डोर टू डोर देने का कार्य कर रही है। उन्होने कहा कि योजनाओ का सही लाभ व व्यक्ति को सही स्वास्थ्य उपचार मिलने के लिए सभी के योगदान की आवश्यकता है। तभी जाकर यह व्यवस्था सार्थक होगी। उन्होने कहा कि साफ सफाई रखने से बीमारी नही होती है और स्वच्छता से शुद्व वातावरण का माहौल रहता है इस कार्य के लिए सभी को प्रेरित करने में जागरूकता की आवश्यकता है जो स्वास्थ्य विभाग निरन्तर कर रही है।
उन्होने कहा कि टी वी घातक बीमारियो में एक है लेकिन सही समय पर उपचार होने से बीमारी का अन्त भी सम्भव है मरीज दवा का उपयोग सरकारी चिकित्सक के सलाह पर निरन्तर करे।
उन्होने कहा कि क्षय रोग (टीबी) संकग्रामक बीमारी है। जागरूकता की कमी से लोग इसकी चपेट में आ रहे है। संक्रमित व्यक्ति के कफ, छींकने, खांसने, थूकने और उसके द्वारा छोड़ी गयी सांस से टीबी के बैक्टीरिया हवा में कई घंटो फैले रहते है। जिससे सामान्य व्यक्ति भी टीबी की चपेट में आसानी से आ जाता है। विश्वभर में प्रतिवर्ष 1.8 मिलियन लोग टीबी से मरते है।
टीबी से निजात के लिए जन-जन को जागरूक होना पड़ेगा।
उन्होने कहा कि 24 मार्च को विश्व क्षय रोग दिवस घोषित किया गया है। टीबी से बचाव के बारे में अधिक से अधिक लोगों को जागरूक करना ही उद्देश्य है। शुरूआती दौर में ही अगर इलाज कराया जाय तो इस बीमारी से छुटकारा मिल सकता है। कहा कि टीबी का पूर्ण इलाज संभव है। इसके लिए देशभर में डाट्स केन्द्र बनाये गये है।
जहां मरीज को दवा खिलायी जाती है। गोष्ठी को अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 कपिलमुनि मिश्रा, नोडल अधिकारी डा0 वी0के0 सिंह, सहित अन्य चिकित्साधिकारियो ने सम्बोधित किया। इस अवसर अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आलोक सिन्हा, विशाल श्रीवास्तव, सुनील त्रिपाठी, राजकुमार यादव, कविता पाठक, राजेश, बाबूराम, श्याम कुमार, अरविन्द कुमार, सर्वेश चतुर्वेदी, सुनीता, भाष्कर चन्द्र, अमित आनन्द, इश्वर चन्द्र सहित समस्त स्वास्थ्य कर्मी एवं टीबी से ग्रसित मरीज तथा परिषदीय विद्यालय के बच्चे एवं शिक्षक शिक्षिकाये उपस्थित रहे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below