आज की ताजा खबर

शिक्षक संघ ने धरना देकर ज्ञापन सौपा

(विचारपरकर प्रतिनिधि द्वारा)
बस्ती 3 फरवरी, प्रदेश नेतृत्व के आवाहन पर शिक्षकों ने 20 सूत्रीय मांगो को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष धरना प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन अपर जिलाधिकारी राकेश कुमार के माध्यम से भेजा। जनपद स्तरीय समस्याओं को लेकर 7 सूत्रीय ज्ञापन अलग से देकर समस्याओं के निस्तारण का आग्रह किया गया।
धरने को सम्बोधित करते हुये संघ जिलाध्यक्ष उदयशंकर शुक्ल ने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार में सदैव शिक्षक हितों में निर्णय लिये गये किन्तु शिक्षकोें से सम्बंधित अनेक न्यायोचित मांगे शासन स्तर पर लम्बित हैं। मांग किया कि लम्बित मांगो का तत्काल प्रभाव से निराकरण कर शिक्षकोें की समस्याओं का निस्तारण कराया जाय। चेतावनी के लहजे में कहा कि यदि 20 सूत्रीय समस्याओं का त्वरित निदान न हुआ तो समूचे प्रदेश के शिक्षक राजधानी लखनऊ में आयोजित धरने में हिस्सा लेंगे। किसी भी स्थिति के लिये शासन और प्रशासन जिम्मेदार होगा। धरने के दौरान संघ को सक्रिय करने के लिये संघ जिलाध्यक्ष उदयशंकर शुक्ल ने राजेश चैधरी को मीडिया प्रभारी घोषित किया।
जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष हुये धरने को जिला मंत्री शिव कुमार तिवारी, बाल्मीक सिंह, आनन्द दूबे, अखिलेश मिश्र, कुसुम लता श्रीवास्तव, पुष्पलता पाण्डेय, उमाशंकर मणि, सतीश शंकर, शैल शुक्ल, राजकुमार सिंह, दिवाकर सिंह, नरेन्द्र पाण्डेय, देवेन्द्र वर्मा, इन्द्रसेन मिश्र, रामप्रकाश शुक्ल, शशिकान्त दूबे, फैजान अहमद, मो. खालिद, मारूफ अहमद, रक्षाराम वर्मा, दिनेश वर्मा, प्रमोद पासवान, त्रिलोकीनाथ, अम्बिका पाण्डेय, आदि ने सम्बोधित करते हुये कहा कि पुरानी पेंशन योजना लागू करने, अन्र्त जनपदीय स्थानान्तरण, 17140 एवं 18150 वेतन लागू किये जाने, छात्रों को वितरण किये जा रहे दूध का कन्वर्जन कास्ट बढाने, मृतक आश्रित को लिपिक पद पर नियुक्त करने, बीएड उत्तीर्ण को सहायक अध्यापक बनाने, खण्ड शिक्षा अधिकारियों के कुल पदों के 50 प्रतिशत पदों पर बेसिक शिक्षा परिषद, विद्यालयोें में कार्यरत शिक्षकों के पदोन्नित, सामूहिक बीमा राशि को बढाने, असाध्य रोग से पीडि़त शिक्षकों की सहायता हेतु शिक्षण कल्याण कोष गठित करने, शिक्षकों के पाल्यों को पूर्व की भांति बीएड व बीटीसी में 10 अंक का वेटेज देने आदि मांगों को पूरा कराया जाना चाहिये। कहा कि प्रदेश सरकार समझौतों के बावजूद अनेक प्रमुख मांगो को स्वीकार नहीं कर रही है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।
जनपद स्तरीय मांगो में समायोजित शिक्षकों का बकाया वेतन शासन द्वारा निर्धारित तिथि पर साूहिक रूप से भुगतान कराने, कार्यरत शिक्षकों के रहते विद्यालय का चार्ज दूसरे शिक्षकों को न देने, परिषदीय विद्यालयों में कार्यरत अनुदेशकों, रसोईयों, प्रेरकों को प्रत्येक माह मानदेय भुगतान कराये जाने आदि की मांगे प्रमुख हैं।
धरने में बरसाती यादव, राजेश चैधरी, रजनीश पाण्डेय, गिरजेश दूबे, रजनीश मिश्र, विनीत चैधरी, रामपराग चैधरी, राणा प्रताप सिंह, जितेन्द्र पाण्डेय, अनन्त पाण्डेय, सन्तोष भट्ट, प्रकाश शुक्ल, नीलम पाण्डेय, रेखा चैधरी, सरिता त्रिपाठी, नाहिद बानो, आनन्द त्रिपाठी, विमल जायसवाल, महमूद आलम, सुभाष चैधरी, विजय प्रकाश, बब्बन प्रकाश स्कन्द मिश्र, प्रेमशंकर दूबे के साथ ही बड़ी संख्या में शिक्षक एवं समायोजित शिक्षक मौजूद रहे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below