आज की ताजा खबर

वृक्ष लगाये, वृक्ष बचाये, प्राण वायु पेड़ पौधों से प्राप्त होता है-डा 0बी0सी0 श्रीवास्तव

वृक्ष लगाये, वृक्ष बचाये, प्राण वायु पेड़ पौधों से प्राप्त होता है-डाॅ0बी0सी0 श्रीवास्तव

अभिषेक श्रीवास्तव
विचारपरक संवाददाता
शोहरतगढ़ (सिद्धार्थनगर) 3 जून, एनवायर्नमेंटल सोसाइटी ने 3 जून से विश्व पर्यावरण दिवस मनाना प्रारम्भ कर दिया, शोहरतगढ विकास खंड के ग्राम सियाव नानकर में एक गोष्ठी आयोजित किया जिसमे ऑक्सफेम इंडिया एवं पंचायती राज विभाग,स्वच्छ भारत मिशन, उद्धान बिभाग, कृषि बिभाग की भागीदारी की।
इस अवसर पर सचिव डॉ0 बी0 सी0 श्रीवास्तव ने कहा कि हमारे जीवन के लिए भोजन, पानी एवं हवा की आवश्यकता होती है, साँस लेना एक ऐसी प्रक्रिया है जो निरंतर चलती है हम आक्सीजन गैस लेते है । आम आदमी को यह जानना बहुत जरुरी हैं कि साँस लेने के लिए जो गैस हम लेते है वह पौधों से प्राप्त होता है। यदि पौधे न हो तो हमें साँस लेने के लिए सुद्ध हवा ओक्सिजन नहीं प्राप्त होगा । इसलिए सब लोग वृक्ष लगाये और उसे बचाये। पर्यावरण संरक्षित करना हम सबका कर्तव्य है ।
इस अवसर पर भद्रसेन सिंह सहायक कृषि अधिकारी भद्रसेन सिंह ने कहा कि पर्यावरण को हानि पहुँचाने में औद्योगीकरण तथा जीवनशैली को जिम्मेदार माना जाता है। यह पूरी तरह सच नहीं है। हकीकत में समाज तथा व्यवस्था की अनदेखी और पर्यावरण के प्रति असम्मान की भावना ने ही संसाधनों तथा पर्यावरण को सर्वाधिक हानि पहुँचायी है।
उन्होंने कहा कि उसके पीछे पर्यावरण लागत तथा सामाजिक पक्ष की चेतना के अभाव की भी भूमिका है। इन पक्षों को ध्यान में रख किया विकास ही अन्ततोगत्वा विश्व पर्यावरण दिवस का अमृत होगा। प्राणदायी हवा है वह पौधों से मिलता है इसलिए पौध रोपण करे और संरक्षित भी करे देवेन्द्र कुमार सिंह, कार्यक्रम समन्वक, आपदा जोखिम न्यूनीकरण परियोजना ने बताया कि “विश्व पर्यावरण दिवस क्यों मनाया जाता है” बड़े पर्यावरण मुद्दें जैसे भोजन की बरबादी और नुकसान, वनों की कटाई, ग्लोबल वार्मिंग
का बढ़ना इत्यादि को बताने के लिये विश्व पर्यावरण दिवस वार्षिक उत्सव को मनाने की शुरुआत की गयी थी। पर्यावरण संरक्षण के दूसरे तरीकों सहित बाढ़ और अपरदन से बचाने के लिये सौर जल तापक, सौर स्रोतों के माध्यम से ऊर्जा उत्पादन, नये जल निकासी तंत्र का विकास करना, सफलतापूर्वक कार्बन उदासीनता को प्राप्त करना, जंगल प्रबंधन पर ध्यान देना, ग्रीन हाउस गैसों का प्रभाव घटाना, बिजली उत्पादन को बढ़ाने के लिये हाइड्रो शक्ति का इस्तेमाल, भूमि पर पेड़ लगाने के द्वारा बायो-ईंधन के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिये इसे मनाया जाता है।
पंचायत विभाग के जे0 पी0 उपाध्याय ने संबोधित किया।
उन्होंने कहा कि पर्यावरण मुद्दों के बारे में आम लोगों को जागरुक बनाने के लिये इसे मनाया जाता है। विकसित पर्यावरणीय सुरक्षा उपायों में एक सक्रिय एजेंट बनने के साथ ही साथ उत्सव में सक्रियता से भाग लेने के लिये अलग समाज और समुदाय से आम लोगों को बढ़ावा देते हैं। उन्हें जानने दो कि पर्यावरणीय मुद्दों की ओर नकारात्मक बदलाव रोकने के लिये सामुदायिक लोग बहुत जरुरी हैं।
सुरक्षित, स्वच्छ और अधिक सुखी भविष्य का आनन्द लेने के लिये लोगों को अपने आसपास के माहौल को सुरक्षित और स्वच्छ बनाने के लिये प्रोत्साहित करना चाहिये। बाल कल्याण समिति के सदस्य विनोद ने संबोधित करते हुए कहा की वृक्ष से हमे बहुत लाभ है , फल , लकघ्ी आदि प्राप्त होता है। अतरू सब लोग वृक्षरोपण
पर ध्यान दे और जल भी बचाये ।
विनोद मिश्रा ब्लाक मोटिवेटर स्वच्छ भारत मिशन ने बताया कि जब तक हम खुले में हगना नहीं बंद करेंगे एवं अपने आसपास के कूडो का प्रबंधन नहीं
करेंगे तब तक पर्यावरण की सुरक्षा पर सवाल होते रहेंगे ग्राम प्रधान अर्जुन चैधरी ने ग्राम वासियों के साथ एक पेड़, एक जिंदगी की शपथ पर्यावरण हमारे जीवन का आधार है। हम शपथ लेते हैं कि अपने जीवनकाल में कम से कम एक पौधा अवश्य रोपेंगे और पेड़ बनने तक उसकी देखभाल भी करेंगे साथ खुले में सौच एवं अपने आसपास के कूडो का प्रबंधन करेंगे
इस अवसर पर रामवतार, दुर्गेश, केसरी मीना ने पौधरोपण किया और कार्यक्रम कि सफलता में ग्राम वसिवो के साथ साथ प्रीती प्रियंका नरेन्द्र शिवराम विनीता त्यागी केसरी लक्ष्मी आदि का सहयोग रहा

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below