आज की ताजा खबर

राजेन्द्र बाबू सादगी, सेवा की प्रतिमूर्ति थे -प्रदीप पाण्डेय

news all up

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
बस्ती 28 फरवरी, सादगी, सेवा, त्याग, देशभक्ति और स्वतंत्रता आंदोलन में अपने आपको पूरी तरह होम कर देने वाले देश के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद को 79 वीं पुण्य तिथि पर श्रद्धा के साथ याद किया गया। चित्रांश क्लब अध्यक्ष अजय कुमार श्रीवास्तव के नेतृत्व में लोहिया मार्केट स्थित शिविर कार्यालय पर उन्हें नमन् करते हुये वक्ताओं ने राजेन्द्र बाबू के व्यक्तित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला।
प्रदीप चन्द्र पाण्डेय ने कहा कि बस्ती का सौभाग्य है कि राजेन्द्र बाबू के पूर्वज कंुवा गांव अमोढा के निवासी थे। कहा कि सादगी, समर्पण, स्वतन्त्रता आन्दोलन, संविधान निर्माण में योगदान के लिये उन्हें सदैव स्मरण किया जायेगा। माकपा सचिव का. के.के. तिवारी ने कहा कि आज जब देश में राष्ट्रवाद और राष्ट्रद्रोह के नाम पर वातावरण को विषाक्त किया जा रहा है डा. राजेन्द्र प्रसाद के व्यक्तित्व से हमें प्रेरणा लेनी होगी। कहा कि उन्होने देश को ऐसा संविधान दिया जिसके बूते हम एक जुट है। प्रदेश प्रवक्ता अशोक श्रीवास्तव ने कहा कि राजेन्द्र बाबू का सम्पूर्ण जीवन देश को समर्पित रहा। सहजता ही उनकी शक्ति है।
चित्रांश क्लब जिला संयोजक डा. कुलदीप सिंह ने कहा कि राजेन्द्र बाबू के मन में देश भक्ति की भावना प्रबल थी, उन्होने स्वतंत्रता संग्राम में संघर्ष से लेकर आधुनिक भारत के निर्माण में जो योगदान दिया उससे वर्तमान राजनीतिज्ञों को प्रेरणा लेनी चाहिये। क्लब के वरिष्ठ उपाध्यक्ष शरद सिंह रावत ने कहा कि राजेन्द्र बाबू की मंशा के अनुरूप देश निर्माण का संकल्प अभी अधूरा है। हम सबका दायित्व है कि देश के लिये अपना योगदान सुनिश्चित करें। विशाल पाण्डेय ने राजेन्द्र बाबू के जीवन वृत्त के विभिन्न पक्षों पर चर्चा की।
क्लब अध्यक्ष अजय कुमार श्रीवास्तव ने आगन्तुकों के प्रति आभार व्यक्त करते हुये कहा कि यदि राजेन्द्र बाबू जैसी सादगी और समर्पण आज के राजनीतिज्ञों में आ जाय तो देश में पुनः सादगी का सुखद दौर लौट आयेगा। इस अवसर पर क्लब के कार्यक्रम अधिकारी संजय उपाध्याय टीटू, नगर अध्यक्ष उमेश श्रीवास्तव, रमेश श्रीवास्तव, सुदीप सिंह, राजेश मिश्र, संजय श्रीवास्तव, महेन्द्र तिवारी, सन्तोष, अनूप मिश्र, अर्जुन भाष्कर, राधेश्याम चैधरी, प्रेमनाथ गौड़, सुनील सिंह, आदर्श श्रीवास्तव, रमेश मिश्र, वशिष्ठ पाण्डेय के साथ ही विभिन्न सामाजिक संगठनों के लोग मौजूद रहे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below