आज की ताजा खबर

मिशनरी स्कूलों से भारतीय सभ्यता को गम्भीर खतरा-अष्ट प्रसाद शुक्ल

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
बस्ती 28 मार्च, दि सिटी मान्टेसरी स्कूल के ग्यारहवें स्थापना दिवस पर स्कूल परिसर में विविधि कार्यक्रम आयोजित किये गये। मुख्य अतिथि खलीलाबाद के पूर्व सांसद अष्टभुजा शुक्ल एवं भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष यशकान्त सिंह ने विभिन्न कक्षाओं में अच्छा रैंक लाने वाले बच्चों को डिग्री एवं मेडल देकर उन्हे सम्मानित किया।
इससे पूर्व मुख्य अतिथि ने नवनिर्मित सांइस लैब का फीता काटकर विधिवत उद्घाटन किया। प्रबंधक अनूप खरे एवं प्रधानाचार्य नूपुर त्रिपाठी ने अतिथियों का भौतिकी, रसायन, जीवविज्ञान प्रयोगशाला एवं कम्प्यूटर कक्ष का दर्शन कराया।
मुख्य अतिथि ने अपने सम्बोधन में कहा कि मिशनरी स्कूल येन केन प्रकारेण हमसे हमारी सभ्यता छीन रहे थे। अंग्रेजी भाषा का बोलना लिखना सिखाने के चक्कर में अभिभावक ऐसे स्कूलों के मार्गदर्शन का पालन करने लगे थे। ऐसे में भारतीय संस्कारों के साथ आगे आये निजी क्षेत्रों के माण्टेसरी स्कूलों ने अं्रगेजी भाषा का ज्ञान कराना शुरू किया।
आज परिवर्तन साफ तौर देखा जा रहा है। शिक्षा आधुनिक हुई है लेकिन हमारे संस्कार इन स्कूलों में जिन्दा हैं। उन्होने अनूप खरे के प्रबंधन की तारीफ की। प्रबंधक अनूप खरे तथा प्रधानाचार्य नपुर त्रिपाठी ने अतिथियों के प्रति हार्दिक आभार जताया।
इस असर पर प्रमुख रूप से देवेंद्र सिंह, अखंड सिंह, राम विनय पांडेय, अरूण कुमार दुबे, मयंक श्रीवास्तव, राजेश चित्रगुप्त, परमेश्वर शुक्ल, सरोज मिश्र ऋषभ राज आदि उपस्थित थे।
पर्सरी के आर्य त्रिपाठी, दीपशिखा शर्मा, एलकेजी के अम्बेश कुमार पाण्डेय, अदिति मिश्रा, यूकेजी के अंश पटेल, आवेश पटेल, फस्र्ट के हरीश चन्द्र चैहान, द्वितीय की आकृति पाण्डेय, तृतीय की अदिति सिंह, चतुर्थ की प्राज्ज्वल पाण्डेय, पंचत के अभिजीत सिंह, छटीं के अस्मित श्रीवास्तव, सातवीं के प्रखर पाण्डेय, रिचा चैधरी को फस्र्ट रैंक मिला। इसके अलावा सम्मानित होने वाले बच्चों में राजवर्धन हलधर, अभया चैधरी, चित्रांश गुप्ता, विशेष कुमार गुप्ता, रिशि शर्मा, कृषका सिंह, आकृति श्रीवास्तव, रिद्धि श्रीवास्तव, शिवा गौर, अनन्या मिश्रा, प्रतीक पाण्डेय, मानवी, श्रेयसमणि त्रिपाठी, यशवर्धन, अर्पित राज, आशुतोष त्रिपाठी, अर्पिता त्रिपाठी, पुनीत उपाध्याय, आर्यवीर सिंह, खुशी सिंह, पुष्कर त्रिपाठी आदि शामिल रहे। कार्यक्रम को सफल बनाने में स्कूल स्टाफ का विशेष सहयोग रहा।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below