आज की ताजा खबर

माता हाथी पर सवार होकर आयेंगी

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
गोरखपुर 14 मार्च, वासंतिक नवरात्र इस साल देश की तरक्की के सुयोग लेकर आ रहा है। माता रानी हाथी पर सवार होकर भक्तों के लिए सुख-समृद्धि लेकर आएंगी। ज्योतिषीय गणनाओं में यह नवरात्र देश को आर्थिक तरक्की की राह पर ले जाएगा, लेकिन राजनीतिक दलों के बीच उथल-पुथल का माहौल रहेगा। महर्षि पाराशर ज्योतिष संस्थान के ज्योतिषाचार्य पंडित राकेश पांडेय के अनुसार वासंतिक नवरात्र के साथ ही नूतन संवत्सर का आरंभ होता है। 18 मार्च, रविवार को नव संवत्सर शुरू होने से इस वर्ष का राजा सूर्य है।
कन्या लग में नवरात्र और नव वर्ष का प्रारंभ होना कई सुयोग बना रहा है। आठ दिन का नवरात्र रविवार को ही पूर्ण हो रहा है। गज पर सवार होकर आ रही माता हाथी पर विदा भी होंगी। ये संयोग व्रत को और भी मंगलकारी बना रहा है। नव संवत्सर की कुंडली के सप्तम भाव में स्थित सूर्य, चंद्र, बुध और शुक्र की युति से भद्र नामक योग बन रहा है। ये कल्याणकारी फल देने वाला होता है। इन सभी सुयोगो के मिलने के कारण यह नवरात्र और नव संवत्सर विश्व के लिए कल्याणकारी होगा। हालांकि, मंगल और शनि की युति राजनीतिक उथल-पुथल के संकेत दे रही है।
पंडि़त राकेश पाण्डेय के मुताबिक भद्र योग के चलते इस वर्ष रूके हुए मांगलिक कार्य होंगे। वर्षा अधिक होगी, जिससे फसलें अच्छी होंगी। महिलाओं का सम्मान बढ़ेगा। व्यापार से जुड़े लोगो को लाभ होगा। यह वन संवत्सर देश को आर्थिक तरक्की की राह पर लेकर जाएगा। कन्या लग्न में सवत्सर प्रारंभ होने और वर्ष की कुंडली के चतुर्थ भाव में मंगल व शनि की युति का प्रभाव राजनीतिक जगत पर पड़ेगा। पार्टियो में विघटन की स्थिति पैदा हो सकती है। इससे बचने के लिए राजनेता नवरात्र में भगवती उपासना के दौरान ऐ ही क्लीं चामुंडायै विच्चे’ का जाप कर सकते है।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below