आज की ताजा खबर

भजन कीर्तन से भक्तिमय माहौल हुआ

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
संतकबीरनगर 16 मार्च, जिले के विकास खंड बघौली के अंतर्गत ग्राम सभा उतरावल में श्रीधर्म सेवा संस्थान चल रही श्रीमद्भागवत कथा के सप्तम दिवस पर आचार्य धरणीधर ने कहा मुक्ति अर्थात अज्ञान कृत अन्यथा रूप का परित्याग करके अपने यथार्थ स्वरुप में स्थित होना अन्यथा रूप अज्ञान मुलक है आत्मज्ञान की निवृत्ति से आध्यात्मिक रूप की निवृत्ति हो जाती है अपनी परीक्षा का भ्रम टूट जाता है इस अविद्या निवृत्ति से उपेक्षित स्व प्रकाश अधिष्ठान ही मुक्ति शब्द का अभिप्रेत अर्थ है मुक्ति देशांतर में कालांतर में या द्रव्यान्तर में निवास करती है वह अपना स्वरूप ही है लिखकर प्राप्त ही है अज्ञान के कारण प्राप्त सी भक्ति है अतः उस ज्ञान की निवृत्ति हो जाने पर मुक्ति स्वरूप आत्मा ही रह जाता आचार्य ने कहा बात यह है कि एक परमात्मा है एक प्रकृति है या पंचभूत है वस्तुतः सबसे सब में समान है फिर गुड क्या दोस्त क्या यह वस्तुनिष्ठ नहीं होते व्यवस्था के अनुसार होते हैं संसार के पदार्थ अधिकारी पुरुषों की अभीष्ट की सिद्धि में सहायक बने इस प्रयोजन से वेद में सम धातुओं में भी विषम नामरूप का आरोप कर दिया है समान वस्तु ही किसी के लिए शुभ किसी के लिए अशुभ होती है इससे वस्तु स्वरूप की खोज होती है धर्म सिद्ध होता है इनके द्वारा व्यवहार की सिद्धि होती है जीवन यात्रा चलती है संयोजन वस्तुओं में भेद की कल्पना की गई है भेद वास्तविक नहीं है काल्पनिक है इस विषय का जैसा विवरण श्रीमद्भागवत में मिलता है वैसा अन्यथा दुर्लभ है भगवान द्वारिकाधीश कृष्ण सुदामा के ऊपर कृपा करते हैं सुदामा से मिलने के लिए भगवान नंगे पांव दौड़े कर जाते हैं भगवान कृपा के सागर हैं भगवान की कृपा जीव के ऊपर निरंतर बरस रहे हैं हमारे श्रद्धा का पात्र कितना बड़ा है भगवान की कृपा उतनी ही हमें प्राप्त होती श्रीमद् भागवत सप्ताह श्रवण करने मात्र से महाराज परीक्षित को सातवें दिन मोक्ष की गति प्राप्त हुई महाराज परीक्षित भगवान के परम धाम को प्राप्त हुए।
इस अवसर पर पूर्व ग्राम प्रधान मधुसूदन राय, प्रधान प्रतिनिधि भीम राय, डॉक्टर तीर्थराज राय, उमेश राय, शिवकुमार मद्धेशिया, फागू राय, वरिष्ठ पत्रकार इन्द्रजीत शुक्ला, महिला थानाध्यक्ष अनीता यादव, रामसहाय पाण्डे, सुरेन्द्र नाथ राय, घनश्याम राय, प्रेम चन्द्र राय, अवधेश राय, रामबुझारत राय, अम्बिका राय, गोपीचंद जायसवाल, राजमन गुड्डू राय, सत्यप्रकाश राय, डा.अनिल सिंह, अजीत राय, राकेश राय उपस्थित रहे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below