आज की ताजा खबर

बेसिक शिक्षा बाल क्रीड़ा प्रतियोगिता शुरू

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
बहराइच 3 दिसम्बर, पुलिस लाइन परेड ग्राउण्ड में आयोजित 02 दिवसीय जनपदीय बेसिक शिक्षा बाल क्रीड़ा समारोह 2018-19 का मुख्य अतिथि जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव व विशिष्ट अतिथि पुलिस अधीक्षक डा. गौरव ग्रोवर ने संयुक्त रूप से माॅ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ किया। इसके पश्चात मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि ने खिलाडि़यों के मार्चपास्ट की सलामी ली, क्रीड़ा समारोह का ध्वजारोहण किया तथा मशाल धावक को मशाल सौंपी। इस अवसर पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी एस.के. तिवारी, खण्ड शिक्षाधिकारी, प्रतियोगिता में सम्मिलित हो रहे स्कूलों के शिक्षक-शिक्षिकाएं तथा बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं व खेल प्रेमी मौजूद रहे।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने छात्राओं का आहवान्ह किया कि पूरे उत्साह के साथ इस आयोजन को एक अवसर के रूप में स्वीकार कर इस मंच पर अपनी प्रतिभा का भरपूर प्रदर्शन करें। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से छात्र-छात्राओं में नवीन उत्साह और ऊर्जा का संचार होगा। उन्होंने कहा कि ऐसी प्रतियोगिताएं छात्र-छात्राओं में अच्छी खेल भावना के साथ संघर्ष करने का जजबा पैदा करती हैं, जो पूरे जीवन उनके काम आने वाली चीज है। उन्होंने कहा कि मुझे पूर्ण विश्वास है कि जल्द ही हमारे बीच के बच्चे हीरे जैसी चमक के साथ देश और दुनिया में अपना नाम रोशन कर दूसरे बच्चों को भी प्रेरित करेंगे।
प्रतियोगिता में सम्मिलित होने वाले बच्चों को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि हारता वही है जो हार मान लेता है। उन्होंने कहा कि खेल के मैदान हमें यही सीख देते हैं हार जाने के बावजूद हमें जीतने की कोशिश करते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि जहाॅ तक किसी प्रतियोगिता की बात है तो इसमें हार या जीत मायने नहीं रखती। अच्छी खेल भावना के साथ हार जाने वाला खिलाड़ी ही वास्तविक विजेता होता है। उन्होंने शिक्षक-शिक्षिकाओं को आहवान्ह किया कि पढ़ाई के साथ-साथ बच्चों को खेल व अन्य गतिविधियों में भी आगे लायें क्योंकि खेलने वाला बच्चा दूसरे अन्य बच्चों के मुकाबले शारीरिक एवं दिमागी तौर से अधिक तन्दरूस्त होता है।
विशिष्ट अतिथि पुलिस अधीक्षक डा. गौरव ग्रोरव ने कहा कि बच्चों के बीच हमें अपने बचपन के दिन याद आ गये हैं। उन्होंने सभी बच्चों का आहवान्ह किया कि अच्छी खेल भावना के साथ प्रतियोगिता में भाग लें। उन्होंने सभी बच्चों को सीख दी कि खेल के साथ-साथ पढ़ाई पर विशेष ध्यान दें और सदा बड़े बुजुर्गों व गुरूजन का सम्मान करें। कार्यक्रम के अन्त में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी एस.के. तिवारी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below