आज की ताजा खबर

प्रत्याशी अनुमति लेकर ही वाहन तथा प्रचार सामग्री का उपयोग करे-कुणाल सिल्कू

(विचारपरक प्रतिनिधि द्धारा)
सिद्धार्थनगर 16 नवम्बर ,जिला मजिस्ट्रेट जिला निर्वाचन अधिकारी कुणाल सिल्कू ने प्रत्याशियों द्वारा प्रचार-प्रसार सामग्री की अनुमति, वाहन की अनुमति एवं चुनाव कार्यालय की अनुमति दिए जाने हेतु समस्त रिटर्निंग आफिसर,उप जिलाधिकारी को निर्देशित किया है। उन्होंने नगरीय निकाय सामान्य निर्वाचन 2017 हेतु पूर्व में जारी निर्देशों एवं आदेशों का कडाई से पालन किए जाने हेतु भी निर्देशित किया है।
जिला मजिस्ट्रेट जिला निर्वाचन अधिकारी कुणाल सिल्कू ने बताया कि चुनाव प्रचार हेतु वाहनों का प्रयोग जिला प्रशासन से अनुमति प्राप्त करने के उपरांत ही किया जा सकेगा। इसी प्रकार लाउडस्पीकर एवं साउंड बॉक्स हेतु भी पूर्व अनुमति लेनी होगी। रात्रि 10ः00 बजे से 6ः00 बजे तक इसका प्रयोग पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। स्थाई तौर पर लाउडस्पीकर एवं साउंड बॉक्स नहीं स्थापित किए जाएंगे। टी0वी0,चैनल केबल नेटवर्क,वीडियो वाहन अथवा रेडियों से किसी भी प्रकार का विज्ञापन-प्रचार जिला प्रशासन की अनुमति के बाद किया जा सकेगा तथा 27 नवंबर को शाम 5.00 बजे के बाद किसी भी प्रकार का चुनाव प्रचार नहीं किया जा सकेगा।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने समस्त उप जिलाधिकारियों एवं नगर मजिस्ट्रेट को निर्देशित करते हुए कहा है कि जनपद में बिना अनुमति के कोई चुनावी जुलूस, प्रचार-सामग्री का वितरण या चस्पा किया जाना प्रतिबन्धित है, अतः जिला प्रशासन की बिना अनुमति के ऐसे जुलूसों एवं सभाओं का आयोजन करना निर्वाचन आयोग की आचार संहिता का खुला उल्लंघन मानते हुए सम्बन्धित के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करना सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि प्रत्याशियों एवं सम्बन्धित पार्टी के पदाधिकारियों को चुनाव प्रचार वाहन एवं अन्य प्रचार सामग्री तथा जुलूस आदि के लिए अनुमति उनके मांगे जाने पर तत्काल जारी की जाये। उन्होंने कहा कि कोई भी प्रचार वाहन बिना अनुमति के संचालित हुआ पाये जाने पर उसे सीज करते हुए सम्बन्धित के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की जाये।
उन्होने जोर देकर कहा है कि मत प्राप्त करने के लिए जातीय, साम्प्रादायिक और धार्मिक भावनाओं का परोक्ष या अपरोक्ष रूप से सहारा लेने वालों के विरूद्व आदर्श आचार संहिता के प्रावधान भारतीय दण्ड संहिता तथा अन्य सुसंगत अधिनियमों में एफ0आई0आर0 दर्ज कराई जाएगी। जिलाधिकारी ने सभी राजनीतिक दल व उम्मीदवार तथा उनके प्रतिनिधियो के कडें निेर्दंश देते हुए कहा कि निर्वाचन के दौरान यदि किसी मतदाता को रिश्वत देकर, डरा धमकाकर या अंातकित करके अपने पक्ष में मत देने के लिए प्रभावित किया, या फिर मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए चुनाव की प्रक्रिया के दौरान किसी भी प्रकार का मादक द्रव्य बाटा तो सम्बन्धितों के विरूद्व एफ0आई0आर0 कराई जाएगी।
जिला मजिस्ट्रेट जिला निर्वाचन अधिकारी कुणाल सिल्कू बताया कि सोशल मीडिया में भी चुनाव प्रचार बिना प्रशासन की अनुमति के नही किया जा सकता।साथ ही सोशल मीडिया पर कोंई भी गलत भ्रामक आपत्तिजनक तथा जनभवाना को आक्रोषित करने वाला भी पोस्ट डालना अथवा मैसेज वायरल करना भी दण्डनीय एवं अक्षम्य होंगा जिसके लिए कठोर कार्यवाही की जाएगी।
उन्होंने सभी से आदर्श आचार संहिता का अक्षरक्ष पालन करने की अपील की है। जिलाधिकारी ने सभी संबंधित अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए हैं कि आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के किसी भी मामले को संज्ञान में आने पर तत्काल कार्यवाही करें । जिला प्रशासन के बिना अनुमति के किसी भी प्रकार का प्रचार प्रसार करना आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन होगा जो धारा 171 एच के अंतर्गत दंडनीय होगा।
जिला मजिस्ट्रेट जिला निर्वाचन अधिकारी कुणाल सिल्कू ने बताया कि वाल राइटिंग पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगी और कोई व्यक्ति ऐसा करता पाया जाए तो उसके विरूद्व एफ0 आइ0आर0 दर्ज कराई जाए। मकान मालिक की लिखित अनुमति से घर पर लग सकेगा सिर्फ एक झंडा लगाया जा सकेगा। यदि किसी जनसभा में कोई भी लाठी-डंडाध्असलहे के साथ मिला तो प्रत्याशी जिम्मेदार होगा। चुनाव कार्यालय पर बैनर, पोस्टर, झंडा एक ही लग सकेगा तथा स्कूल, कालेज, अस्पताल के पास कार्यालय, नही बनाया जा सकेगा। कोई भी प्रत्याशी कैलेंडर, डायरी नही बाँट सकेंगे। कोई भी प्रत्या’ाी निर्धारित व्यय सीमा से अधिक व्यय नही करेंगा। किसी भी शासकीय,सार्वजनिक सम्पत्ति,स्थल,भवन,परिसर में,पर विज्ञापन, वालराइटिंग नही करेंगे। चुनाव प्रचार हेतु वाहनों के प्रयोग के लि, जिला प्र’ाासन से अनुमति प्राप्त करेंगे।
टी-वी- चैनल,केबिल नेटवर्क,वीडियों वाहन अथवा रेडियों से किसी भी प्रकार का विज्ञापन,प्रचार जिला प्र’ाासन की अनुमति के पश्चात ही कर सकेगे। किसी व्यक्ति द्धारा राजनैतिक दलों,प्रत्या’िायों की अनुमति के बिना उनके प{ा में निर्वाचन विज्ञापन या प्रचार सामग्री प्रकाशित नही करायी जायेगी यदि कोई व्यक्ति इसका उल्लघंन करता है तो उसका यह कृत्य भा0द0सं0 की धारा 171,च के अंतर्गत दंडनीय होगा। निर्वाचन के प्रचार-प्रसार के लि, धार्मिक स्थलों का प्रयोग करने पर प्रतिबन्ध है।निर्वाचन अभियान के प्रयोजनार्थ कोई सार्वजनिक सभा आयोजित करने हेतु प्रचार-प्रसार कार्यालय के लि, सरकारी विश्रामगृहों या डाक बंगलों के उपयोग पर प्रतिबन्ध है।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below