आज की ताजा खबर

देश के किसानों की दशा सुधारा जाय-डा0आर0एस0पटेल

अनुराग कुमार श्रीवास्तव
विचारपरक संवाददाता
बस्ती 23 फरवरी, सरदार सेना के संयोजक डा0 आर0एस0 पटेल ने आज कहा कि वर्तमान समय की सरकारें लौह पुरूष सरदार पटेल के नाम पर वोट लेने की राजनीति कर रही है, लेकिन सरदार पटेल के नाम पर किसी योजना का संचालन नहीं होता है।
आज यहां प्रेस क्लब सभागार में पत्रकारों से बात चीत में उन्होंने कहा कि आजादी को 70 साल बीत गए, अब तक सरदार पटेल के सपनो के भारत पर काम नहीं हुआ। देश व प्रदेश का किसान कमेरा समाज उपेक्षित एवं वंचित हो रहा है. अब तक की जो भी सरकारें आयी सिर्फ पुजीपतियों के लिए ही काम किया जिसके कारण दिन प्रति दिन किसानों की हालात बद से बत्तर होती जा रही है।
उन्होंने एक प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि देश में सैकड़ों किसान रोज आत्म-हत्या कर रहे है. मौजूदा देश व प्रदेश सरकारें सिर्फ पुंजीपतियों के लिए सामंतवादीयों के इशारें पर कार्य कर रही है. आज देश व प्रदेश में पिछड़े वर्ग के नाम पर राजनीतिक संगठन व सामाजिक संगठन सरकारों की पिछलल्गु बन सिर्फ शोषण कर रही है, इस सभी मुद्दे पर जब देश का किसान एवं युवा समाज अपनी आवाज उठाता है तो सरकारें युवा के आन्दोलन को कुचलने व किसानो पर गोलिया चलवाने का काम कर रही है, उन्होंने कहा कि आज जब एक तरफ पाटीदार, किसान युवाओं के नेता हार्दिक पटेल ने देश का सबसे बडा आन्दोलन खड़ा किया तो सरकारें हार्दिक पटेल की आवाज को दबाने का कार्य करने लगी।
उन्होंने कहा कि सहारनपुर में जब चन्द्रशेखर उर्फ रावण ने अपने हक व समाज कि रक्षा के लिए आवाज बुलंद किया तो उत्तर प्रदेश कि सामन्तवादी सरकार ने दर्जनों केश लाद कर उसे साथियो सहित जेल कि सलाखों में कैद कर दलित समाज के आन्दोलन को कुचलने का प्रयाश किया गया।
सरदार सेना भारत के 85 मूल निवासी समाज की आवाज है ,जो सरदार बल्लभ भाई पटेल के सिद्धांतो पर आधारित होकर मूल निवासी समाज के हक हूकुक की लड़ाई को वृहद् कर सामाजिक समरसता वाले देश की स्थापना हेतु लड़ाई लड़ रहा है। सरदार सेना की सरकार से मांग है कि भारत के किसानो कि दसा सुधारने हेतु कृषि को उधोग का दर्जा देते हुए कृषि आयोग कि स्थापना हो ताकि उत्पादन का मूल्य किसान निर्धारित कर सके।
उन्होंने आरक्षण के मुद्दे पर सरदार सेना के संयोजक ने कहा कि वर्तमान आरक्षण व्यवस्था को और बेहतर बनाने हेतु भारत सरकार को जिसकी जितनी संख्या भारी ,उतनी उसकी हिस्सेदारी के हिसाब से आरक्षण लागू करने का काम करना चाहिए जिससे कि देश में उच नीच का भेदभाव खत्म होकर सामाजिक समरसता कायम हो सके। सरदार सेना भारत सरकार से मांग करती है कि जिसकी जितनी संख्या भारी ,उतनी उसकी हिस्सेदारी कि तर्ज पर देश के न्यायपालिका ,कार्यपालिका ,मीडिया व प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण व्यवस्था लागू किया जाय।
इस मौके पर बृजलाल लोधी संगठन महामंत्री, एपीएन डिग्री कालेज के पूर्व अध्यक्ष महिपाल पटेल माही, संग्राम सिंह,सुधीर सिंह ,सुरेश वर्मा ,लकी चैधरी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below