आज की ताजा खबर

तहसील प्रशासन ने जमीन विवाद निपटाया

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
शोहरतगढ़, (सिद्धार्थनगर) 20 मार्च, जिले के शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत अगया में उप जिलाधिकारी शोहरतगढ़ अरूण कुमार सिंह द्वारा की गयी और उनकी सर्तकता ने जमीनी विवाद को आगे बढ़ने खत्म कर दिया।
विदित हो कि ग्राम पंचायत अगया निवासी विमला पत्नी जुग्गीलाल ने उप जिलाधिकारी शोहरतगढ़ के संज्ञान में पति द्वारा 13 वर्ष पूर्व की गयी एक मण्डी की रजिस्ट्री में क्रेता द्वारा अधिक निर्माण को लेकर न्याय की गुहार लगाई थी।
शिकायत कर्ता की माने तो उसने अपने तहरीर में लिखा है कि मेरे पति जुग्गीलाल ने वर्ष 2004 में अपने हिस्से की जमीन गाटा संख्या 242 रक्बा 1-1-017 में से एक मण्डी जमीन सूर्यमती देवी पत्नी अर्जुन सा0 तालभिरौना के हाथों से 07.02.2004 में रजिस्ट्री कर दी थी, जिसकों सूर्यमती देवी वर्तमान में निर्माण करवा रही है तथा उसके दक्षिण ग्राम समाज की जमीन में भी बढ़कर निर्माण कर रही है व मेरे जमीन में से खरीदी गयी रक्बा से अधिक भूमि पर निर्माण करवा रही है। मना करने पर सीनाजोरी जोरी व सरकसी के बल पर फर्जी मुकदमें में फसाने की धमकी दे रही है। प्रार्थिनी विधवा है, जब वह और अपने परीजनो के साथ अपने जमीन पर जाती है तो उक्त सूर्यमती व उसके पति अर्जुन पुत्र बल्ली गाली गुप्ता देकर अकेले पाने पर जान से मारने की धमकी दे रहे है और कह रहे है कि जहां जाना हो जाओं, कुछ नहीं कर पाओगी।
इसके साथ ही उसने लिखा कि प्रश्नगत गाटे की जमीन में से खरीदी गयी रक्बा (एक मण्डी) से अधिक भूमि पर हो रहे निर्माण को रोकवाने की कृपा करें, जिससे प्रार्थी को न्यायमिल सकें।
उक्त शिकायती पत्र पर उपजिलाधिकारी ने कार्यवाही करते हुए राजस्व निरीक्षक और क्षेत्रीय लेखपाल से रिपोर्ट मांगा। उक्त के सम्बन्ध में क्षेत्रीय लेखपाल ने कहा कि जांच के आधार पर शिकायतकर्ता की बात सही है, शिकायतकर्ता के पति द्वारा बिक्री की जमीन से 9 ईंच से अधिक निर्माण हो रहा है, चूकिं शिकायतकर्ता विवाद नहीं चाह रहा था, इसलिए आपसी सहमति के आधार पर सूर्यमती के परिजनों द्वारा शिकायतकर्ता को उचित मुआवजा दिला दिया, जिसे वह स्वीकार किया।
उक्त प्रकरण में जब शिकायतकर्ता से बात की गयी तो उन्होने कहा कि साहब 9 ईंच की बात है बात को आगे बढ़ाना ठीक नहीं, अब प्रश्नगत प्रकरण में किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं करनी।
जानकारो की माने तो यदि समय रहते उप जिलाधिकारी के आदेश का पालन नहीं होता तो बात को बढ़ना गलत नहीं होता।

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below