आज की ताजा खबर

ठण्ड से जनजीवन अस्त-व्यस्त

ठण्ड से जनजीवन अस्त-व्यस्त

(विचारपरक प्रतिनिधि द्धारा)
बस्ती 25 दिसम्बर , बस्ती मण्डल के तीनों जिलों में ठण्ड का कहर चल रहा है। ठण्ड से सामनान्य जन-जीवन अस्त व्यस्त हो गया है,बच्चो तथा बुजुर्गो को सबसे अधिक ठंड से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है,ठण्ड के चलते दैनिक मजदूरों की मजदूरी प्रभावित हो गयी है और आलू,सरसो,मटर की फसलो को पाला से क्षति पहुंच रहा है।
आज यहां यह जानकारी देते हुए अधिकारिक सूत्रों ने बताया है कि मण्डल के बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर जिलों में कड़ाके की ठण्ड पड़ रही है,इससे सामन्य जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।लोग घरो से दोपहर बाद ही निकल रहे है।
सरकार द्धारा छोटे बच्चो के स्कूलो का समय 10 बजे से 3 बजे तक कर दिया गया है लेकिन अभिभावक ठंड के भय से बच्चो को स्कूल नही भेज रहे है।कुछ निजी स्कूल के संचालक सरकार के आदेश को धत्ता दिखाते हुए मनमानी ढंग से प्रातः काल ही स्कूल लगा रहे है।
कड़ाके की ठंड और शीत लहरी के चलते धूप नही निकल रहा है।इससे सड़को पर सन्नाटा छाया हुआ है लोग घरो मे दुबके रहने के लिए मजबूर है।पिछले 20 दिनो से मण्डल के बस्ती,सिद्धार्थनगर,सतंकबीरनगर जिले मे शाम होते ही घना कोहरा छा जा रहा है जो अलगे दिन 1 बजे 2 बजे दिन तक बना रहता है तेज और बर्फीली हवाओ के चलते हाड़ कपाती शर्दी का सितम नागरिक झेल रहे है,बर्फीली हवाओ और तापमान के नीचे लुढ़ुकने से नागरकि बेहद परेशान है सुबह शाम सैर पर निकलने वालो लोगो की सख्ंया बहुत घट गयी है उनी कपड़ो की बिक्री चरम पर है,जलौनी लकड़ी और कोयले का दाम दो गुना हो गया है,एक कृषि बैज्ञानिक ने बताया है कि कोहरे का सबसे ज्यादा प्रभाव आलू,सरसो और मटर की खेती पर पड़ रहा है पाले के असर असर से इन फसलो की पत्तियां पीली पड़ सकती है पौधो को विकास भी रूक सकता है,किसानो के मुताबिक कोहरे के प्रभाव के कारण गेहूं का जमाव मे भी काफी समय लग सकता है,दलहन,तिलहन की फसलो को क्षति पहुंच रहा है।
सूत्रो के मुताबिक मण्डल के तीनो जिलो मे लगने वाले पशु बाजारो और चटटी बाजारो मे पशुओ और मनुष्यो की आमद नही हो रही है।
मण्डल भर मे सड़क दुर्घटनाएं बढ़ गयी है विभिन्न सड़क दुर्घटनाओ मे बीते 24 घण्टे के भीतर 10 से अधिक लोग घायल हुए है,बस्ती गोरखपुर,बस्ती-लखनउ,गोरखपुर-सिद्धार्थनगर-गोण्डा रेल मार्ग पर चलने वाली सभी ट्रेने काफी देर से चल रही है।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below