आज की ताजा खबर

जिले में धारा 144 लागू

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
संतकबीरनगर 5 फरवरी, जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही की अध्यक्षता में माध्यमिक शिक्षा परिषद की 6 फरवरी 2018 से 12 मार्च 2018 तक होने वाली परीक्षा के सम्बंध में सभी जोनल, सेक्टर, स्टेटिक मजिस्ट्रेटों व केन्द्र व्यस्थापकों व परीक्षा संचालकों आदि की बैठक जिलाधिकारी सभाकक्ष में किया गया।
जिलाधिकारी ने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री हम शासन की मंशा है कि माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षायें नकलविहिन हो तथा परीक्षाओं की सुचिता, पवित्रता, गुणवत्ता एवं विश्वसनीयता बनाये रखते हेतु आवश्यक उपाय किये जाये। इसके लिए जनपद में कुल तीन जोनल मजिस्ट्रेट 03 सुपर जोनल मजिस्ट्रेट, 21 सेक्टर मजिस्ट्रेट 70 स्टैटिक मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है। पूरे जनपद मे कुल 70566 छात्र छात्राएं 103 परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा देगें। परीक्षाएं सवेरे 07ः30 से 10ः45 तक दोपहर की 2ः00 बजे से 5ः15 तक होगी। पूरे जनपद में तथा सम्बधित क्षेत्रों 144 धारा लागू की गई है तथा यह परीक्षा सी0सी0टी0बी0 के निगरानी में की जाएगी। जिला स्तर पर कन्ट्रोल रूम बनाये गये इसका नम्बर-9452262907 है। परीक्षा केन्द्र के 100 मी0 तक किसी को एकत्र होने की अनुमति नही दी जाएगी।
जिलाधिकारी ने सभी मजिस्ट्रेट, प्रभारी मजिस्ट्रेटों, पुलिस अधिकारियेा, केन्द्र व्यवस्थापक चार सचल दल के अधिकारियों आदि को निर्देश किया है कि अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमण कर पूरी स्थिति की जानकारी ले तथा इस जनपद में नकलविहिन परीक्षा करने के लिए शासन एवं प्रशासन के संकल्प को पूरा करने के लिए मदद करें। कही किसी भी परीक्षा केन्द्र पर यदि सार्वजनिक परीक्षा अनुचित साधानों का निवारण अधिनिय 1998 के तहत कार्यवाही की जाएगी। कही पर यदि नकल की सूचना प्राप्त होती है तो उस कार्य में लगाये गये केन्द्र व्यवस्थापक कक्ष निरीक्षक तथा अन्य अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकि दर्ज की जाएगी तथा उनके खिलाफ सेवा नियमों के तहत कठोर अनुशासनिक कार्यवाही की जाएगी जिलाधिकारी ने कड़े शब्दों मे कहा कि नकलविहिन परीक्षा कराये जाने के लिए शासन के निर्देश तथा मुख्य सचिव के निर्देश शत प्रतिशत का पालन किया जाएगां। इसमे किसी भी प्रकार की कमी नही हो दी जाएगी। जो अधिकारी इसमें हीला हवाली कार्य करेगें उनके खिलाफ भी कार्यवाही की जाएगीं। सचल दल एवं लगाये गये सम्बंधित अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश है कि नकलविहिन परीक्षा सम्पन्न कराने के लिए आवश्यक अपने स्तर से भी कार्यवाही उनके साथ जिला एवं पुलिस प्रशासन उनके साथ है यदि कोई धमकी देता है तो उसकी सूचना तत्काल मौके पर तैनात पुलिस अधिकारी एवं मजिस्ट्रेट को दे। जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि परीक्षा केन्द्रों की संवेदनशीलता को देख कर अतिरिक्त व्यवस्था की गई और मेरे और पुलिस अधीक्षक द्वारा नियमित जनपद का भ्रमण किया जाएगा। इसके साथ जनपद के मुख्य विकास अधिकारी, अपर जिलाधिकारी एवं अपर पुलिस अधीक्षक एवं क्षेत्राधिकारी भ्रमण करेगें। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद के 103 परीक्षा केन्द्रों में से 14 परीक्षा केन्द्र संवेदनशील है उस पर अतिरिक्त अधिकारियों एवं पुलिस अधिकारियों की विशेष डयूटी लगाई गई है। हमारा प्रयास है कि जनता एवं अधिकारियों के सहयोग से पूरे जनपद में नकलविहिन परीक्षा सम्पन्न करा कर एक आदर्श स्थापित किया जाए। इसके लिए जिलाधिकारी ने जनपद के सभी वर्ग के लोगो से इस पवित्र कार्य मे जो जीवन का आधार है उसमें सहयेाग की अपील की है। जिलाधिकारी ने इस बैठक मे यह भी कहा कि इण्टरमीडिएट परीक्षा अधिनियम की धारा 14 क (1-2) परीक्षा केन्द्र पर लगाये गये अन्य कर्मचारी सरकारी कर्मचारी के श्रेणी मे माने जाते है। तथा उनके कार्य मे कोई बांधा डालने का कार्य करता है तो उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही करते हुए प्राथमिकि दर्ज की जाएगी तथा यह प्रसज्ञेय अपराध माना जाएगा उनको पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था भी उपलब्ध कराई जाएगी।
बैठक में जनपद के मुख्य विकास अधिकारी हाकिम सिंह, अपर जिलाधिकारी ,अपर पुलिस अधीक्षक, सभी उप जिला मजिस्ट्रेट, क्षेत्राधिकारी गण, थानाध्यक्ष, जनपद स्तरीय अधिकारी, नामित सेक्टर मजिस्ट्रेट, शिक्षा विभाग के अधिकारीगण प्रभारी केन्द्र, एवं अन्य इस परीक्षा कार्य में लगाये गये अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे। इसी क्रम में हीरालाल रामनिवास इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य रामकुमार सिंह ने बतायाकि हाईस्कूल तथा इण्टरमीडिएट के सभी बोर्ड परीक्षार्थियो से आग्रह किया है कि परीक्षा कक्ष में किसी भी प्रकार का इलेक्ट्रानिक सामान, मोबाईल, तथा कोई भी अनुचित सामग्री, पर्स आदि लेकर न आये जिससे उन्हे समस्याओं का सामना करना पड़े। समय से परीक्षा केन्द्र पर पहुॅचे और पूरी ईमानदारी से पूरे समय का सदुपयोग करते हुए सुचिता पूर्ण ढंग से परीक्षा दे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts