आज की ताजा खबर

जन्म के एक घण्टे के अन्दर शिशु को स्तनपान कराने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाये-माला श्रीवास्तव

(विचारपरक प्रतिनिधि द्धारा)
बस्ती 24 जुलाई , जिला पोषण समिति,जिला कन्वर्जन्स एक्शन प्लान की बैठक में जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव कार्यो में शिथिलता पाये जाने पर आरसीएच के नोडल अधिकारी तथा सीडीपीओ हर्रैया एवं सल्टौआ को नोटिस जारी करने का निर्देश दिया है। उन्होने निर्देश दिया है कि कार्यो मंे सुधार न पाये जाने पर कार्यवाही भी की जायेगी।
समीक्षा में उन्होने पाया कि 15248 कुल गर्भवती महिलाओं के सापेक्ष मात्र 1114 का एमसीटीएस में रजिस्टेशन हुआ। जबकि 13196 का प्रसव पूर्व जाॅच की गयी। इसमें शिथिलता के लिए आरसीएच के नोडल अधिकारी को इसका स्पष्टीकरण तलब किया गया है। हर्रैया एवं सल्टौआ में 90 प्रतिशत से कम जन्म के एक घण्टे के अन्दर शिशुओं को स्तनपान शुरू न करा पाने पर दोनों सीडीपीओं का स्पष्टीकरण तलब किया गया है।
उन्होने निर्देश दिया है कि जन्म के एक घण्टे के अन्दर शिशु को स्तनपान कराने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जायेंगा, जो शिशु एक घण्टे के अन्दर स्तनपान नही करते है इस मामले की जाॅच करायी जायेंगी। उन्होने कहा कि आशा, एएनएम के माध्यम से पर्याप्त जागरूकता होनी चाहिए कि एक घण्टे के अन्दर शिशु स्तनपान करे। कलेक्टेªट सभागार मे आयोजित बैठक में जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है कि सभी आगनबाड़ी केन्द्र पर वजन करने वाली मशीन ग्राम स्वास्थ्य पोषण एवं स्वच्छता समिति मद की धनराशि से क्रय की जायेंगी। इसके अलावा केन्द्र के लिए आवश्यक अन्य उपकरण भी खरीदे जायेंगे। केन्द्र के रख-रखाव, मरम्मत, रंगाई-पेाताई की व्यवस्था भी इस मद से की जायेंगी। समीक्षा में उन्होने पाया कि 1247 गा्रम पंचायतो के अन्डाईड़ फण्ड में 1109500 रू0 उपलब्ध है। जून माह में इसमें एक भी पैसे का व्यय नही किया गया है। पूर्व में इस खाते का संचालन ग्राम प्रधान के साथ एएनएम करती थी, जिसे बदलकर अब आशा को कर दिया गया है फिर भी इस मद से धनराशि व्यय नही हो पा रही है।
उन्होने निर्देश दिया कि ग्राम स्वास्थ्य पोषण एवं स्वच्छता समिति की बैठक का रोस्टर जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी तथा बेसिक शिक्षा अधिकारी के पास होना चाहिए। रोस्टर के हिसाब से वे क्षेत्र का भ्रमण करेंगे तथा बैठको में भाग लेंगे।
माह के पहले बुद्धवार को आयोजित होने वाले सुपोषण स्वास्थ्य मेला का उदघाटन अनिवार्य रूप से प्रधान द्वारा किया जायेंगा। जिला कार्यक्रम अधिकारी कार्यालय में एक कंट्रोल रूम बनाया जायेंगा जो इसमें भाग लेने वाले प्रतिभागियों को बैठक मंे जाने के लिए प्रेरित करेंगे।
जिलाधिकारी ने ढाई किलों के कम वजन वाले बच्चों के बारे में स्वास्थ्य विभाग से आडीट रिपोर्ट तलब किया है। समीक्षा में उन्होने पाया कि जून माह में 3103 बच्चों का जन्म हुआ जिसमें से 449 जन्म के समय ढाई किलों से कम थे। उन्होने अतिगम्भीर कुपोषित (सैन) बच्चों का चिन्हाॅकन करने का निर्देश दिया है जून माह में कुल 19 बच्चे सैन श्रेणी के पाये गये है। उन्होने सभी सीडीपीओं को निर्देश दिया कि वे अपने केन्द्रों का नियमित भ्रमण करे तथा निरीक्षण आख्या उन्हे उपलब्ध कराये।
बैठक का संचालन जिला कार्यक्रम अधिकारी सविता देवी ने किया। इसमें सीडीओ अरविन्द पाण्डेय, ज्वाइंट मजिस्टेªट प्रेम प्रकाश मीना, डीआईओएस बृज भूषण मौर्या, बेसिक शिक्षा अधिकारी, डीपीआरओं ब्रम्हचारी दूबे, जिला पूर्ति अधिकारी रमन मिश्रा तथा सभी सीडीपीओं उपस्थित थे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below