आज की ताजा खबर

कुपोषण से बच्चों और महिलाओं को बचाया जाय-दिनेश कुमार सिंह

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
बस्ती 27 फरवरी, आयुक्त बस्ती मण्डलायुक्त दिनेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में मण्डल स्तरीय पोषण समिति की बैठक आयुक्त सभागार में सम्पन्न हुयी। इस बैठक में शून्य से पाॅच वर्ष तक के बच्चे, किशोरियो एवं गर्भवती महिलाओं के पोषण अच्छा करने और कुपोषण मुक्त कार्यवाही करने का मुख्य उद्देश्य है।
आज यहां यह जानकारी देते हुए सरकारी सूत्रों ने बताया है कि मण्डल के तीनों जनपदों में लगभग 372 गाॅव जनपद स्तरीय अधिकारियों द्वारा गोद लिए गये है। इसमें मुख्य रूप से स्वास्थ्य, बाल विकास, पंचायत, खाद्य आपूर्ति आदि विभाग की योजनाओं के द्वारा संतृप्त किया जाता है तथा शून्य से पाॅच वर्ष तक के बच्चों को आयरन की गोली वितरण कर उनको कुपोषण से मुक्त किया जाय। पूरे मण्डल में लगभग 60 हजार अतिकुपोषित बच्चे चिन्हित किए गये है जिनको लाल कार्ड दिया गया है, हमारा मुख्य उद्देश्य है कि अतिकुपोषित बच्चों को सामान्य श्रेणी में लाना साथ ही साथ इन बच्चो को धात्रि, गर्भवती महिलाओं तथा किशोरियों को नीली आयरन की टेबलेट और लाल आयरन की टेबलेट दी जाती है,जिसमें विशेष रूप से किशोरी महिलाओं को नीला टेबलेट दी जाती है।
समीक्षा में पाया गया कि बस्ती जनपद में नीली आयरन की टेबलेट नही है। इस पर कार्यवाही करने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया गया कि जल्द से जल्द इस गोली की खरीद कराये। पूरे मण्डल में आयरन की नीली और लाल गोलिया के वितरण में मानक ठीक से नही पाया गया। जिसपर तीनो जनपदों के चिकित्साधिकारियों से स्पष्टीकरण लेने का निर्देश दिया गया। बैठक में उपस्थित अपर निदेशक स्वास्थ्य श्री शाही को इस संबंध में अपने स्तर से कार्यवाही करने तथा इस रिपोर्ट को वास्तविक रूप से तैयार करने के निर्देश दिये गये। संबंधित गाॅवों में शुद्ध पेयजल, शौचालय और वेवी शौचालय बनाने हेतु अभी तक पंचायत विभाग द्वारा बजट उपलब्ध होने के वावजूद कार्यवाही नही की गयी।
इस पर स्पष्टीकरण लेने के निर्देश दिये गये। मण्डलायुक्त ने यह भी कहा कि जिन अधिकारियों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण किया जाता है उसका भी विवरण प्रस्तुत किया जाय।
गर्भवती महिलाओं की रक्त की जाॅच एवं एनिमिया में सुधार हेतु गुणात्मक कार्यवाही करने हेतु स्वास्थ्य विभाक के अधिकारियों को निर्देश दिया गया। मण्डलायुक्त ने कहा कि समीक्षा का मुख्य उद्देश्य स्थिति में सुधार लाना है न कि सामान्य रूप से खानापुर्ति करना तथा फर्जी आकड़ेबाजी करना। गर्भवती महिलाओं एंव किशोरियों में माडरेक्ट या मानक के अनुसार हीमोग्लोबीन की मात्रा लाना स्वास्थ्य विभाग और बाल विकास का मुख्य उद्देश्य है। समय से पोषाहार वितरण किए जाय, टीकाकरण कराये जाय तथा जो बच्चे कमजोर है, उनपर विशेष ध्यान दिया जाय जिससे कि मण्डल में कोई विपरीत स्थिति न उत्पन्न हेा।
मण्डलायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ साथ मण्डल के जिलाधिकारियों को पोषण संबंधी योजना का गहनता से समीक्षा करने का निर्देश दिया। मण्डल में ग्राम स्वास्थ्य पोषण एंव स्वच्छता समिति द्वारा अभी तक लगभग 11 माह तक 59.87 लाख व्यय किया गया है, जबकि इस मद में अभी भी 1.51 करोड़ धनराशि अवशेष है इस धनराशि को गुणात्मक सुधार के साथ साथ तेजी से शौचालय बनाने तथा स्वच्छता कार्यक्रम को पूरा करने के निर्देश दिये गये।
मण्डलायुक्त ने बचपन दिवस, ममता दिवस, लाडली दिवस नियमित आयोजन करने हेतु संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश्ज्ञ दिया गया। इस बैठक में संयुक्त विकास आयुक्त श्री तेज प्रताप मिश्र ने विगत बैठक का विवरण बिन्दुवार प्रस्तुत किया तथा इस बैठक में अपर निदेशक स्वास्थ्य, उप निदेशक पंचायत, उप निदेशक सूचना, जिलापूर्ति अधिकारी बस्ती, जिला कार्यक्रम अधिकारी बस्ती तथा अन्य दोनो जनपदों के जिला कार्यक्रम अधिकारी, खाद्य विभाग के अधिकारी तथा इससे जुड़े हुए अन्य मण्डलीय अधिकारी उपस्थित थे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below