आज की ताजा खबर

कल्प वृक्ष के समान है रामकथा-डा0 संत शरण त्रिपाठी

(विचारपरक प्रतिनिधि द्वारा)
बस्ती 20 मार्च, जिले के जीवपुर में चल रहे राम कथा में कथा वाचक डा0 संत शरण त्रिपाठी ने कहा है कि रामकथा कल्प वृक्ष क¢ समान है। कथा में भगवान राम के महान चरित्रो का गुणगान है। कथाओं का उद्देश्य है भक्ति की स्थापना है।
श्री त्रिपाठी विकास खण्ड क¢ जीवपुर में चल रहे संगीतमयी श्रीराम कथा के प्रथम दिन श्रद्धालुओं को कथा का रसापान करा रहे थे। उन्होंनें कहा कि मां गंगा राम कथा में भक्ति की धारा है तथा यमुना कलयुग क¢ कलुषता को हरने वाली कर्म की धारा है। सरस्वती ब्रम्ह विचार है और मां सरयू की धारा राम कथा की काव्य धारा है जिससे अनुराग का रंग मिलता है। उन्होंनें कहा कि इन्ही के आधार पर रामचरित मानस का लेखन सम्भव हो पाया। कथा को विस्तार देते हुए श्री त्रिपाठी ने कहा कि जब मनुष्य अपने दुगुर्णो की पहचान कर लेता है और उसे दूर कर प्रभु क¢ भजन में ध्यान मग्न होता है तो भगवान उसक¢ सारे दुगुर्णो को भुलाकर अपनी शरण में ले लेते है। सुल्तानपुर क¢ मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ. चन्द्रभूषण नाथ त्रिपाठी ने कथा व्यास की आरती उतारी। इस मौक¢ पर अनिल सिहं, भगवान बक्स सिहं, समीर चैहान, बाबूराम सिहं, बुद्धिसागर सोनी, संजीव सिहं सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below