आज की ताजा खबर

अयोध्या का प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा मखौड़ा धाम से 1 अप्रैल को शुरू होगा

अनुराग कुमार श्रीवास्तव
विचारपरक संवाददाता
बस्ती 26 मार्च, देश विदेश में प्रसिद्ध अयोध्या के 84 कोसी परिक्रमा की तैयारी तेजी से चल रही है। यह परिक्रमा प्राचीन काल से मखौड़ाधाम से शुरू होती है। इस वर्ष परिक्रमा की शुरूआत 1 अप्रैल से होगी और 22 अप्रैल को मखौड़ा पहुंच कर समाप्त होगी, मखौडा धाम से शुरू होने वाली चैरासी कोसी परिक्रमा की सभी तैयारी तेजी से चल रही है।
आज यहां यह जानकारी देते हुए अयोध्या के संत गयादास ने बताया है कि अयोध्या की विश्व प्रसिद्ध चैरासी कोसी परिक्रमा की परंपरा सदियो पुरानी है। इस यात्रा में श्रद्धालु भगवान राम के राज्य के 84 कोस का भ्रमण करते है। यह माना जाता है कि भगवान राम की अयोध्या से 84 कोस का इलाका भी अयोध्या धाम ही है। संत महात्माओं का कहना है कि चूंकि सनातन धर्म में 84 लाख योनियां होती है तथा देवी-देवताओं भी 84 कोटि होते है इसलिए 84 कोसी परिक्रमा करने से मनुष्य का 84 लाख योनियो में भटकने का क्रम समाप्त हो जाता है तथा पुण्यफल की प्राप्ति होती है। उन्होंने बताया है कि 84 कोसी परिक्रमा में 22 दिनांे में पूरा होगा, परिक्रमा में शामिल श्रद्धालु 22 दिन में पांच जनपदो के 21 पड़ावो पर रात्रि विश्राम करेंगे। यात्रियांे की सुरक्षा और विश्राम के लिए क्षेत्र स्तर पर गठित समितियों द्वारा श्रद्धालुओं को हर सम्भव सहयोग प्रदान किया जायेगा। यात्रा के उन्होंने बताया है कि 84 कोसी परिक्रमा में सम्मलित होने वाले श्रद्धालुओं को गठित समिति की तरफ से परिचय पत्र दिया जायेगा। अब तक 1500 लोगो ने पंजीकरण हुआ है। साथ ही जिन लोगो का पंजीकरण किसी वजह से नही हो पाया है और ऐसे लोग रास्ते में कही यात्रा में शामिल होते है तो उनकी अपने पास पहचान पत्र रखना अनिवार्य होगा। इसका उद्देश्य यात्रियों की सुरक्षा तथा किसी आपात स्थिति में परिजनो को सूचना देना है। यात्रा मखौड़ा धाम से प्रारंभ होकर 22 अप्रैल को यहीं समाप्त भी होगी।
इस सम्बन्ध में सूत्रों ने बताया है कि परिक्रमा में सम्मलित श्रद्धालु 31 मार्च को संत गयादास के नेतृत्व मखौड़ा पहुंचेगे और यहां से 1 अप्रैल की भोर में यात्रा प्रारंभ होगी। बस्ती जनपद में यात्री रामरेखा मंदिर पर पहली रात विश्राम करेंगे। दूसरे दिन दुबौलिया ब्लाक के हनुमानबाग चकोही में विश्राम करेंगे। तीसरे दिन सेरवाघाट पर सरयू नदी पार कर श्रृंगीऋषि आश्रम गोसाईगंज फैजाबाद पहुंचेगे। चैथे दिन अंबेडकर नगर जनपद में प्रवेश कर पुनः फैजाबाद के महादेवा घाट पर पहुंचकर तमसा नदी पार करेंगे। फैजाबाद के तारून ब्लाक के आगागंज टिकरी में विश्राम करेंगे। अगला पडाव फैजाबाद के भगनरामपुर सूर्यकुंड मे पडाव होगा। सीता कुंड बीकापुर, ढेमावैश्य इनायत नगर, जनमेजय कुंड खंडासा, अमानीगंज पोखरा, रूदौली, पटरंगा, बेलखरा, टिकैत नगर बाराबंकी, दुलारेबाग, परशुपुर, गोंडा, राजापुर, परशुपुर, गोंडा, विद्रावन, खैरा, सेमरागंगा, भगत उमरी बेगमगंज, उत्तरी भवानी, जमथा तरबगंज, नाका पहलवान, बीर मंदिर, नवाबगंज, प्राथमिक विद्यालय, रेहली नवाबगंज से होते हुए पुनः मखौड़ा पहुंचेगे। मखौड़ा मंे भंडारा के बाद यात्रा की समाप्ति होगी।
इस सम्बन्ध में सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के उप निदेशक डा0 मुरलीधर सिंह ने बताया है कि जिला प्रशासन द्वारा 84 कोसी परिक्रमा के सम्मलित श्रद्धालुओं के सुरक्षा, चिकित्सा, का बन्दोबस्त किया गया है। जिलाधिकारी की ओर से पुलिस प्रशासन, राजस्व विभाग, तथा अन्य विभागों को निर्देश प्रदान किया गया है कि श्रद्धालुओं को कहीं पर भी कोई असुविधा न होने पावें।

About The Author

अनुराग श्रीवास्तव विचारपरक के पत्रकार है |

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enter the text from the image below